ब्रेकिंग न्यूज़
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी
    नरवा गरूवा घुरवा बारी

    न्यूज़ बुलेटिन




    रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मर्रा में आयोजित शाला प्रवेश उत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ सम्पूर्ण शिक्षण आकलन एवं प्रबंधन प्रणाली (सीजी टीम) का शुभारंभ किया। उन्होंने इसके माध्यम से क्रियान्वित की जाने वाली 51 गतिविधियों का अवलोकन किया।

    इसके माध्यम से स्कूल शिक्षा विभाग के विद्यार्थी, शिक्षक, विद्यालय और समुदाय लाभान्वित होंगे। इस अवसर पर शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह, क्रिकेटर अनिल कुम्बले, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी, संचालक लोक शिक्षण एस.प्रकाश, प्रबंध संचालक समग्र शिक्षा पी.दयानंद सहित संभाग आयुक्त दिलीप वासनीकर, कलेक्टर अंकित आनंद और विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने डीजी दुनिया के डिजिटल कक्ष का शुभारंभ किया। डिजिटल कक्ष में स्कूली बच्चेे रोचक ढ़ंग से मल्टीमीडिया के माध्यम से पढ़ाई कर सकेंगे और पाठ्यक्रम के आधार पर बच्चे अपना मूल्याँकन कर सकते है। उन्होंने हाई स्कूल और हायर सेकेण्डरी स्कूलों में सूचना प्रौद्योगिकी आधारित ई क्लास एवं लैब का अवलोकन कर डीजी दुनिया की कार्यप्रणाली को समझा।

    मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ग्राम सोरम की कक्षा दसवीं की धनेश्वरी साहू से पढ़ाई के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने कक्षा एक से दस तक की पुस्तकों में दीक्षा एप्प के माध्यम से मोबाइल में क्यूआर कोड स्केन कर पाठ से संबंधी प्रश्न तथा अतिरिक्त जानकारी प्राप्त करने के तरीके को समझा। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ राज्य में छत्तीसगढ़ी भाषा के अलावा हल्बी, सरगुजिया, कुडूख, दंतेवाड़ा गोंड़ी, कांकेर गोंड़ी में भी पुस्तकें और वीडियो तैयार किए गए हैं।

    मुख्यमंत्री को अवलोकन के दौरान बताया गया कि राजीव गांधी शिक्षा मिशन एवं राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिसर रायपुर द्वारा लैंग्वेज एवं लर्निंग फाउंडेशन नामक गैर सरकारी संगठन के साथ प्रारंभिक भाषा शिक्षण कार्यक्रम ’नीव’ का शुभारंभ किया। इसे दुर्ग जिले के दो विकासखंड पाटन और दुर्ग के 200 स्कूलों में किया जा रहा है। वर्ष 2021 तक यह कार्यक्रम दुर्ग जिले के लगभग 585 स्कूलों में संचालित किया जाना है। इससे बच्चों को हिन्दी भाषा विकास और साक्षरता कौशल में सुधार किया जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने नवीन व्यावसायिक शिक्षा एक परिचय पुस्तक का विमोचन किया गया, जिसमें नवीन व्यावसायिक शिक्षा के विभिन्न ट्रेड जैसे आटोमोबाइल, हेल्थ केयर, रिटेल, मीडिया इंटरटेनमेंट, बी.एफ.एस.आई, आई.टी., ब्यूटी एंड वैलनेस, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड हार्डवेयर, टेलीकॉम, एग्रीकल्चर के विषय में विस्तार से जानकारी दी गई। मर्रा हाई स्कूल में मीडिया इंटरटेनमेंट और एग्रीकल्चर द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

     


    नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी



    टिप्पणी दें

    Security code
    Refresh